Importance of International women's Day

No Comments
International women's Day की शुरुआत 

International women's day हर वर्ष 8 march को मनाया जाता है। United Nation के द्वारा इसकी शुरुआत 1975 में की गयी।


Women's day drawing


                     तन के भूगोल से परे
                     एक स्त्री के मन की गांठें खोलकर
                     कभी पढ़ा है तुमने,
                     उसके भीतर का खौलता इतिहास ?
                     पढ़ा है कभी उसकी चुप्पी की दहलीज पर बैठ,
                     शब्दों की प्रतीक्षा में उसके चेहरे को ?
                     अगर नहीं ,
                      तो क्या जानते हो तुम रसोई
                      और बिस्तर के गणित से परे
                      एक स्त्री के बारे में --------- ?


Women's day drawing

        Women's Day for gender equality -


          हमारी दुनिया / world में जितने भी जीव / species हैं उनको नर या मादा ( male or female ) में विभाजित किया जा सकता है। प्रकृति के नियम को ध्यान से देंखे तो हमें पता चलता है कि हर Species में मादा ( female) को बेहतरी ( greatness ) प्राप्त है। केवल हमारी मनुष्य ( Human ) जाति में ये उल्टा दिखाई देता है।

              वास्तव में उल्टा हमारा नजरिया है जहाँ से हम सही - सही नहीं देख पातें है प्रकृति ने तो स्त्री को एक जननी का दर्जा दिया और निर्माण में अपना सहयोगी बनाया है। तो फिर आज स्त्री जाति की दशा क्यो खराब है ? ये विचार करने वाली बात है और खुद ही इसका उत्तर निकालना है।


International women's day


Women's day पर अपनी जिम्मेदारी तय करे


हर  Creative person ( कलाकार ) के पास ये जिम्मेदारी होती है कि वो 
समाज के जटिल मुद्दों को अपनी कला (  any work ) के माध्यम से लोगों तक सरल रूप में पहुँचाये और व्यक्ति विशेष के अंदर एक ऐसा भाव ( emotions ) पैदा कर दे जिसमें समाज में positive बदलाव आ सके।






0 comments

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए कमेन्ट करें